संस्कृति और विरासत

कोरबा जिला मुख्यतः हिंदी भाषी क्षेत्र है, इसके अतिरिक्त छत्तीसगढ़ी भाषा भी भी चलन में है जोकि यहाँ की स्थानीय बोली है |कोरबा अपनी सांस्कृतिक विविधता के लिए प्रसिद्ध है। लोग उत्साह के साथ सभी त्यौहार मनाते हैं।

मुख्य रूप से पहारी कोरवा और बिरहोर जनजाति जिले के प्रमुख जनजाति समुदाय हैं। वे आम तौर पर अलगाव में रहने की आदत रखते हैं। वे पहाड़ी और वन क्षेत्रों में रहते हैं।

मुख्यतः जनजातीय त्यौहार देव उठनी, पोला, छेरछेरा, कर्मा और हरेली हैं।

मानसून के महीने में हरेली किसान इस उत्सव का जश्न मनाते हैं, इसे हरियाली भी कहा जाता है।

पोला लोगों द्वारा मनाया जाने वाला एक और त्यौहार है, त्यौहार मिट्टी के दौरान बैल की पूजा की जाती है।

रावत नाचा, कर्मा नाचा, बार नाचा और सुवा नृत्य जिले के पारंपरिक नृत्य हैं।

शहरी क्षेत्र में घर पक्का हैं जबकि ग्रामीण परिवार अपने घरों को मिट्टी और इंट से बनाते हैं।